आप इसमें कहां विजिट करना चाहते हैं रोम

आपका
चयन

विश्व देवालय

Point Of Interest

एक घंटा

अनुमानित समय

साँचा:Ancient monuments in Rome विश्व देवालय (उच्चारित/ˈpænθi.ən/ (ब्रिटेन) या /ˈpænθiːɑːn/ (अमेरिका), लातिन : Pantheon, से यूनानी : Πάνθειον, "सभी देवताओं के लिए" अर्थ में प्रयुक्त मंदिर के लिए लिया गया ग्रीक शब्द, ἱερόν ["hieron"], समझा जाता है) रोम में बनी एक इमारत है, जो मार्क्स अग्रिप्पा द्वारा प्राचीन रोम के सभी देवी-देवताओं के मंदिर के रूप में बनायी गयी थी और 126 ई. में सम्राट हैड्रियन ने इसे दोबारा बनवाया था। लगभग समकालीन लेखक (द्वितीय-तृतीय सी. सीई), कैसियस डियो ने अनुमान लगाया कि यह नाम या तो इस इमारत के आसपास रखी गयी इतनी अधिक मूर्तियों की वजह से, या फिर स्वर्ग के गुंबद से इसकी समानता की वजह से रखा गया। फ्रांसीसी क्रांति के बाद से, जब संत जेनेवीव ने, पेरिस के चर्च को अप्रतिष्ठित कर उसे धर्मनिरपेक्ष स्मारक के रूप में बदल कर उसे पेरिस का विश्व देवालय बना दिया, उसी समय से ऐसी किसी भी इमारत जहां किसी प्रसिद्ध मृतक को सम्मानित किया गया या दफनाया गया हो, उसके लिए सामान्य शब्द विश्व देवालय (पैन्थियन), का प्रयोग किया जाने लगा है।यह इमारत तीन पंक्तियों के विशाल ग्रेनाइट कोरिंथियन कॉलम की वजह से गोलाकार है जिसका बरामदा (पहली पंक्ति में आठ और पीछे चार के दो समूहों में) गोल घर में खुल रहे त्रिकोणिका के नीचे हो, कंक्रीट के गुंबद में बने संदूक में जिसका केंद्र (आंख) (ऑकुलस) आकाश की ओर खुलता हो. अपने निर्माण के लगभग दो हजार साल बाद भी विश्व देवालय का गुंबद अब भी विश्व का सबसे बड़ा असुदृढ़ कंक्रीट गुम्बद है। आंख (ऑकुलस) की ऊंचाई और आंतरिक चक्र का व्यास समान है, 43.3 मीटर (142 फीट). एक आयताकार संरचना बरामदे को गोलघर के साथ जो़ड़ती है। अब तक संरक्षित की गयी रोमन इमारतों में यह बेहतरीन है। इतिहास में यह सदैव इस्तेमाल की जाती रही है और 7वीं शताब्दी से, विश्व देवालय को रोमन कैथोलिक चर्च के रूप में इस्तेमाल किया जाता रहा है जो "सेंट मैरी और शहीदों" को उत्सर्गित है लेकिन अनौपचारिक रूप से यह "सांता मारिया रोटांडा" के नाम से जाना जाता है।

फोन

+39 06 6830 0230

वेबसाइट

http://www.polomusealelazio.beniculturali.it/index.php?it/232/pantheon

खुले रहने का समय

  • रविवार 08:30 - 07:30
  • सोमवार 09:00 - 18:00
  • मंगलवार 09:00 - 18:00
  • बुधवार 09:00 - 18:00
  • गुरूवार 09:00 - 18:00
  • शुक्रवार 09:00 - 18:00
  • शनिवार 09:00 - 18:00
Powered by Google